इस महीने
जो तुम आ जाते ए बार ~ महादेवी वर्मा

जो तुम आ जाते एक बार
कितनी करुणा कितने सँदेश,
पथ में बिछ जाते बन पराग,
पूरी रचना ...

गीतिका जैसवाल की वाणी में ऑडियो-
यह महीना भारत के पर्व का महीना है|
इस उपलक्ष पर प्रस्तुत है -

प्रवासी गीत - विनोद तिवारी
का ऑडियो

चलो, घर चलें,
लौट चलें अब उस धरती पर ।
जहाँ अभी भी प्यार मिलेगा,
रूठे तो मनुहार मिलेगा,
अपने सर की कसम मिलेगी,
नाज़ुक सा इसरार मिलेगा।
पूरी रचना ...
प्रतिध्वनि में नया ऑडियो
विनोद तिवारी
मंजरी गुप्ता पुरवार
प्रिया नागराज
नई प्रकाशित कवितायें
मंजरी गुप्ता पुरवार
नागार्जुन
प्रिया नागराज
सारी रचनाएँ काव्यालय के इन विभागों में संयोजित हैं:
20वी सदी के पूर्व हिन्दी का शिलाधार काव्य
20वी सदी के प्रारम्भ से समकालीन काव्य
उभरते कवियों की रचनाएँ
अन्य भाषाओं के काव्य से जोड़ती हुई रचनाएँ
मोती समान पंक्तियों का चयन
कविताओं का ऑडियो: कवि की अपनी आवाज़ में, या अन्य कलाकार द्वारा:
काव्य सम्बन्धित लेख:
प्रकाशन का समयक्रम:
सामान्यतः महीने का प्रथम और तीसरा शुक्रवार